Monika Gupta

Writer and Mother in Moga, India

Read my articles

परिवर्तन प्रकृति का नियम है उसी प्रकार जीवन का भी। जीवन बहुत ही अनिश्चित होने के कारण हमारी परिस्थितियों में भी निरंतर परिवर्तन होता ही रहता है। कभी- कभी अत्यंत निराशाजनक परिस्थितियों में से हमारे लिए कुछ बहुत अच्छा निकल कर आता है। मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही घटित हुआ। मेरा जन्म, पालन-पोषण एवं शिक्षा पंजाब के एक बहुत ही छोटे से कस्बे में हुई। पढ़ने में ठीक थी। बी.ए स्थानीय कालेज से हुई तो अमृतसर में बी.एड करने के दौरान ही विवाह तय हो गया और थोड़े समय पश्चात् विवाह भी हो गया। एक डेढ़ वर्ष में ही पुत्र का जन्म हुआ। जिससे कि पारिवारिक ज़िम्मेदारियों में व्यस्त हो गई। समय के साथ-साथ बेटा बड़ा हुआ तो ज़िम्मेदारियों में भी परिवर्तन हुआ। पतिदेव भी हमेशा की तरह काम पर चले जाते थे। खाली समय काफी बचने लगा। विवाह पूर्व की पढ़ाई के पश्चात् गृहस्थी की व्यस्तता के चलते कभी कुछ पढ़ने का संयोग ही नहीं बन पाया। जैसे जैसे अंतराल बढ़ता गया पढ़ने में रूचि भी नदारद होती गई। समय भी बहुत ही तनाव और निराशा का चल रहा था। तभी ईश कृपा से एक महान् आत्मा से भेंट हुई। उनसे मिलना हमारा सौभाग्य ही था। उनकी प्रेरणा से पुस्तकें पढ़ने का क्रम फिर से आरंभ हुआ। जब फिर से पढ़ने का क्रम आरंभ हुआ तो समय का सदुपयोग होने लगा। उससे मन भी प्रसन्न रहने लगा। लेकिन वे यहीं नहीं रुके। कहा कि जो पढ़ती हो उसका अनुभव लिखो। अब मैं, जिसका लिखने से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं था। लिखना तो दूर कलम पकड़ने तक का अभ्यास नहीं रहा था। उनसे प्रेरणा पाकर अपनी अल्प बुद्धि से लिखने लगी। कुछ लेख लिखे जोकि कुछ समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए। उन्होंने ही इस दिशा में एक कदम और आगे बढ़कर अपना ब्लॉग आरंभ करने के लिए कहा और सभी लेख इसमें एकत्र करने के लिए कहा। इसका एक और उद्देश्य है ताकि निरंतरता बनी रहे। इसमें मेरी एक बहुत अपनी जिसे मैं अपनी अनुजा ही मानती हूँ का भी बहुत सहयोग है। इस सारी प्रक्रिया में ईश्वर का आशीर्वाद एवं मेरे परिवार का सहयोग आरंभ से अब तक पूर्ण रूप से मिलता रहा है और आगे भी मिलता रहेगा ऐसा ही विश्वास है। मैं कोई जन्मजात या सिद्धहस्त लेखिका नहीं हूँ। केवल एक प्रेरणा है जिसका अनुगमन करते हुए यहां तक पहुँची हूँ। यह सब उसी प्रेरणा, मेरे परिवार एवं अत्यंत आत्मीय जनों को समर्पित है। यह ब्लॉग शुरू करने का उद्देश्य केवल अपने अनुभव आप सब के साथ बाँटना है। हो सकता है किसी को इससे कुछ लाभ प्राप्त हो सके। आप सबके सुझावों एवं विशेष टिप्पणियों की प्रतीक्षा एवं स्वागत रहेगा।