Virendra Kandari

Politician and काँग्रेस विधानसभा प्रभारी in Narendra Nagar, India

View my portfolio

वीरेंद्र कण्डारी का जन्म नरेन्द्रनगर तहसील में स्थित स्यूड ग्राम में दिवंगत लाला स्व. श्री धर्म सिंह कंडारी और श्रीमती कमला देवी के एक मध्यम-वर्गीय परिवार में १० जुलाई १९६१ को हुआ था।

युवावस्था में वह छात्र हित और सामाजिक सरोकारों से जुडे कार्यों से जुड़े रहे और साथ ही साथ भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलनों में सम्मिलित रहे। राजकीय डिग्री कॉलेज ऋषिकेश में प्रवेश करने के बाद, वीरेंद्र सक्रिय रूप से कॉलेज की राजनीति में भाग लिया और प्रथम वर्ष ऍफ़.आर( फैकल्टी प्रतिनिधि ) चुने गये। तत्पश्चात पूर्व सांसद और केंद्रीय मंत्री स्व. श्री ब्रहमदत्त जी के सानिध्य में जनसरोकार से जुड़े कार्यों और कांग्रेस पार्टी के कार्यों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया |

किशोरावस्था में अपने भाई श्री सुरेंद्र कण्डारी के साथ मिलकर, पिता दिवंगत लाला श्री धर्म सिंह कंडारी जी द्वारा चलाये गए पारिवारिक व्यवसाय को कण्डारी जी ने बखूबी आगे बढ़ाया |

वीरेंद्र कण्डारी अपनी विशिष्ट जीवन शैली के लिये समूचे राजनीतिक हलकों में जाने जाते हैं। एक कर्मयोगी की तरह जीवन जीने वाले वीरेंद्र के स्वभाव से सभी परिचित हैं, इस नाते उन्हें अपने कामकाज को अमली जामा पहनाने में कोई दिक्कत पेश नहीं आती |

उनके द्वारा किए गए कार्यों को भले किसी पृष्ठ पर अंकित नहीं किआ जा सकता, तथापि हम उनके द्वारा कुछ बड़े कार्यो का आकलन उनके द्वारा कालांतर से वर्तमान तक के संभाले गए पदों के द्वारा कर सकते हैं:

· 1982 से 1986 - अध्यक्ष युवक मंगल दल ग्राम स्यूड

· 1986 से 1988 - युवक समिति अध्यक्ष (वि. ख. नरेन्द्रनगर)

· 1988 से 1990 - सामाजिक कार्यकर्ता का चुनाव जीता

· 1990 से 1996 - जिला पंचायत सदस्य

· 1996 से 2002 - अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी नरेन्द्र नगर

· 1996 से 2003 - जयेष्ठ उप-प्रमुख

· 2003 से 2008 - ब्लॉक प्रमुख

· 2004 से 2008 - जिलाध्यक्ष - "ब्लॉक प्रमुख संगठन"

· 2008 से 2013 - जिला पंचायत सदस्य

· 2008 से 2013 - जिला नियोजन समिति सदस्य

· 2014 से 2015 - सदस्य पर्यटन विकास परिषद्

· वर्तमान में - विधानसभा प्रभारी कोटद्वार

· वर्तमान में - प्रदेश सचिव उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी

चाहे गांव हो, क्षेत्र हो, जनहित हेतु कोई नई परियोजना हो, व्यापार वर्ग हो अथवा गरीब लोगों, शिक्षा संस्थानों, कृषि, उद्योग और सेवा हो, नरेन्द्रनगर के नागरिकों की समस्याओं को अपने स्तर पर तथा सरकार द्वारा, जैसे भी संभव हो, दूर करने के लिए वीरेंद्र हमेशा प्रयासरत रहे l

कुर्ता-पायजामा व सदरी पहनने वाले तो बहुत से नेता राजनेता सत्ता की भाग दौड़ में चले आते हैं, परंतु वीरेंद्र जैसे जनता के प्रतिनिधि, किसी भी स्थिति में रहकर सदैव समाज के हर वर्ग के लिए मार्गदर्शक के रूप में प्रयासरत रहते हैं।



  • Work
    • Indian National Congress